इंटरनेट क्या है और इंटरनेट की परिभाषा Internet kya hai

नमस्कार दोस्तों आज हम जानेंगे की इंटरनेट क्या है क्योंकि दोस्तों आजकल इंटरनेट का जितना प्रकोप हो गया है कि जिसे देखो वही इंटरनेट पर लगा पड़ा है और लगे भी क्यों ना यह हमारे जीवन में इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि बच्चे से लेकर बूढ़े तक स्टूडेंट्स टीचर्स सब की जरूरत बन गया इंटरनेट क्योंकि इंटरनेट के माध्यम से हम घर बैठे पूरे विश्व की न्यूज़ देख सकते हैं कि पूरे विश्व में क्या चल रहा है और इंटरनेट से हम घर बैठे हर प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और हां इंटरनेट के माध्यम से केवल इंफॉर्मेशन ही नहीं मिलती बल्कि लाखों लोग आज घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से पैसे कमा रहे हैं और अपना घर चला रहे हैं साथ ही हमारे जो दैनिक कार्य हैं वह भी 80% इंटरनेट के माध्यम से ही हो रहे हैं

तो आपको यह भी जानना जरूरी है की इंटरनेट होता क्या है? इंटरनेट की परिभाषा क्या है? अगर आपको भी नहीं पता कि इंटरनेट क्या होता है तो डरने की कोई बात नहीं है आज के इस आर्टिकल में हम यही जानेंगे की इंटरनेट क्या है और इंटरनेट की परिभाषा क्या है

इंटरनेट क्या है What is Internet

दोस्तों आज की इस संपूर्ण ब्लॉग में हम बात करने वाले हैं इंटरनेट से जुड़े सभी सवालों और तथ्यों के बारे में इंटरनेट क्या है कैसे है क्यों है इंटरनेट का इतिहास क्या है क्या इंटरनेट का कोई मालिक है आज आपके सभी सवाल संपूर्ण इस ब्लॉग में कवर होने वाले हैं तो आप कृपा करके इस ब्लॉग को लास्ट तक जरूर पढ़ें

  1. इंटरनेट की परिभाषा?
  2. Internet क्या है ?
  3. क्या कोई इंटरनेट का मालिक है?
  4. सर्वर क्या है ?
  5. इंटरनेट की फुल फॉर्म क्या है?
  6. इंटरनेट की शुरुआत कब हुई ?
  7. Internet कब शुरू हुआ ?
  8. हमारे भारत में इंटरनेट कब शुरू हुआ ?
  9. इंटरनेट का इतिहास क्या है ?
  10. इंटरनेट के क्या फायदे हैं?
  11. Internet के क्या नुकसान है ?
  12. इंटरनेट कैसे काम करता है ?
  13. Internet का आविष्कार किसने किया ?

इंटरनेट की परिभाषा:-

Internet की परिभाषा इंटरनेट वर्ल्ड लेवल पर (Connect) जुड़ी ऐसी प्रणाली है जो TCP/IP प्रोटोकॉल के माध्यम से एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर के मध्य विभिन्न प्रकार के मीडिया के माध्यम से सूचनाओं जानकारियां या डाटा का संचार और आदान-प्रदान के लिए उपयोग किया जाता है जिसे हम इंटरनेट कहते हैं साथ ही इसमें कई सर्वर शामिल होते हैं

इंटरनेट क्या है? What is Internet in hindi:-

इंटरनेट सूचना और डाटा ट्रांसफर करने का एक सबसे सस्ता और अहम साधन है इंटरनेट की वजह से ही रोज लाखों लोग अपने डेटा और फाइल्स को शेयर करने के लिए उसका क्यों करते हैं और रोज लाखों या यूू कह लो करोड़ों कंप्यूटर रोज इंटरनेट के साथ एक दूसरे से कनेक्ट रहते हैं इंटरनेट केे बिना लोग अपने डेटा को ट्रांसफर हो एक दूसरे के साथ शेयर नहीं कर सकते आज के इस आधुनिक युग में यदि लोगोंं के लिए किसी एक निश्चिंत क्षेत्र में किसी वजह से इंटरनेट बंद हो जाए तो लोगों का जीना भी मुश्किल हो जाता है

क्या कोई इंटरनेट का मालिक है:

इंटरनेट पर किसी व्यक्ति विशेष का अधिकार नहीं है इंटरनेट का कोई भी मालिक नहीं है यह एक प्रकार का सर्वर है जिसे बहुत सारी प्राइवेट कंपनियां खरीद कर रखती है और डाटा को उस सरवर के माध्यम से लोगों तक इंटरनेट को पहुंचाती है और उसके लिए वह लोगों से पैसे चार्ज करते हैं इंटरनेट पर ना ही तो किसी व्यक्ति और ना ही किसी सरकार का हक होता है यह सिर्फ एक सर्वर है जिसके माध्यम से हम ऑनलाइन रहते हैं

सर्वर क्या है :-

सर्वर एक प्रकार का स्थानीय क्षेत्र होता है सर्वर के अंदर हमारा डाटा सुरक्षित रहता है सर्वर हर प्रकार का डाटा ऑन रहता है जैसे कि आप फोन पर क्या कर रहे आप क्या देखते हो आप किस से बात करते हो किसके साथ चैट करते हो यह सब एक सरवर में मौजूद रहता है भले ही आप इसे अपनेे मोबाइल फोन सेे मिटा दे सरवर का सीधा साधा संबंध इंटरनेट से है इंटरनेट एक प्रकार की सेवा है जिसे कोई प्राइवेट कंपनी लोगों से किसी डाटा या प्लान के पैसे लेकर उन तक यह इंटरनेट की सेवा पहुंचाती है जिसके माध्यम से लोग ऑनलाइन रहते हैं और एक दूसरे से कनेक्ट रहते हैं

इंटरनेट की फुल फॉर्म क्या है :-

इंटरनेट का फुल फॉर्म Interconnected Network होता है और यह Interconnected Network ही है जिसने आज पूरी दुनिया को बदल कर रख दिया है दोस्त शायद आप जानते होंगे कि आज इंटरनेट की लोगों को कितनी जरूरत हो गई है आज हर काम इंटरनेट पर होता है सारा डाटा ट्रांसफर सारी फाइल ट्रांसफर इंटरनेट के माध्यम से होती है और यह सब हम Interconnected Network की बदौलत ही कर पाते हैं Interconnected Network इसका एक शॉर्ट नाम भी है जिसे I.N के नाम से जाना जाता है

यह भी पढ़ें:- wi-fi क्या है जानिए वाईफाई कैसे कार्य करता है

इंटरनेट की शुरुआत कब हुई :-

पोस्ट इंटरनेट को पहली बार 1969 में बनाया गया था उस दिन कई सारे कंप्यूटर को एक दूसरे सेे कनेक्ट क्या गया और उसके बाद एक दूसरे कंप्यूटर में मैसेज भेजा गया और उस दिन से इंटरनेट मैं अपना रूप बड़ा करना शुरू इंटरनेट को अमेरिका की एक आर्मी कंपनी ने बनाया था आर्मी ने अपनेे ही सैनिको के कोई सीक्रेट मैसेज या कोई कमान देनेेे के लिए बनाया था इंटरनेट को बनाने वाली आर्मी ने इसे advance research project agency network नाम दिया था और इसके ऊपर काम शुरूू किया और यह है प्रोजेक्ट इंटरनेट के रूप में उभर कर बाहर आया और आज आपको पता है कि इंटरनेट लोगों के लिए कितना आवश्यक हो गया है

इंटरनेट कब शुरू हुआ:-

इंटरनेट को बनाने का काम 1930 में ही शुरूू हो गया था लेकिन इससे सूचना का आदान प्रदान करने के लिए 1958 के बाद जाना जाने लगा और फिर arpan केे शोधकर्ताओं ने आर्मी के लिए सूचनाओं का आदान प्रदान और कोई गुप्त बात सैनिक तक पहुंचाने के लिए इस मिशन पर काम किया और यह मिशन सक्सेसफुल रहा और इस प्रोजेक्ट को advance research project agency network नाम दिया गया था इस मिशन के बाद इस नेटवर्क पर और काम किया गया और jcr लिकलाइडर

जोकि arpan के हेड थे इन्होंने एक सिद्धांत पेश किया जिसका नाम रियल टाइम इंटरएक्टिव कंप्यूटिंग था इसके बाद और इस नेटवर्क में कई सारे इंप्रूवमेंट किए गए और आज के इस आधुनिक युग में आप देख सकतेे हो की इंटरनेट ने पूरे विश्व के लोगों का काम कितना आसान कर दिया गया है और डाटा को आदान-प्रदान करना कितना सरल और कम समय में होने लगा है और यह सब यदि हो रहा है तो

इंटरनेट की वजह से इंटरनेट में सबसे ज्यादा विकराल रूप 1970 से 1972 के बीच में लेना शुरू कर दीया था यह समय एक ऐसा समय है जब विश्व में कई कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़े और सूचनाओं का आदान प्रदान किया उस समय कई हजारों कंप्यूटर इस नेटवर्क की वजह से एक दूसरे के साथ जुड़े थे

हमारे भारत में इंटरनेट कब शुरू हुआ :-

दोस्तों विश्व में जब इंटरनेट बहुत तेजी से खेल रहा था तब इसने अपना दायित्व भारत में भी जमाया और हमारे भारत देेश में इंटरनेट की नीव 15 अगस्त 1995 को रखी गई थी और इस दिन पहली बार भारत में इंटरनेट का उपयोग किया गया था शुरुआत के दिनों में इंटरनेट सिर्फ सरकारी कार्यालय या किसी साइबर कैफे में ही चलाया जा सकता था लेकिन इंटरनेेट को भारत मेंं आम लोगों के बीच में थोड़ा लेट लाया गया और इसकी शुरुआत भारत के कोलकाता राज्य से हुई थी

जहां पर आम लोगों ने पहली बार इंटरनेट चलाया था शुरुआती समय में इंटरनेट को सिर्फ कंप्यूटर में चलाया जा सकता था लेकिन आज के इस आधुनिक युग में इंटरनेट लोगों की जेब में घूमता रहता है और जब मन हो जहां टाइम हो से बस स्टैंड हो या रेलवे स्टेशन अपनी मनमर्जी से इंटरनेट को हम चला सकते हैं

इंटरनेट का इतिहास क्या है :-

दोस्त आपने पहले ही यह है बहुत बार पढ़ लिया होगा कि इंटरनेट की शुरुआत कैसे हुई जी हां युद्ध के दौरान सेना को अपने सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए कोई सरल माध्यम चाहिए था और इन्होंने अपनी आवश्यकता को अविष्कार में बदल दिया और यहीं से शुरू हुआ इंटरनेट का यह दोर इसे सेना नेेे बनाया तो अपनी आवश्यकता पूरी करनेेे के लिए था लेकिन इंटरनेट ने इतना विकराल रूप लेे लिया की इसे बनाने वालेे भी सोच नहीं सकते थे इंटरनेट की शुरुआत से लेकर आज तक इतने कई सारे बदलाव किए गए इसमेंं

सबसे बड़ा बदलाव 1969 और 1970 मैं किया गया था इस समय विंटन सर्फ नाम के एक एक दूसरे कंप्यूटर के बीच में संवाद या सरल सूचना का आदान प्रदान करने के लिए रिसर्च कर रहे थे और उन्होंने अपने इस प्रोजेक्ट को ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकोल नाम दीया और इसे सरल शब्दों में TCP भी कहा जाता है इसके बाद इस वैज्ञानिक ने इसमें और इंप्रूवमेंट क्या और इसमें एक और प्रोटोकॉल जुड़ा इसके बाद इसे IP के रूप में जाना जाने लगा और आज के इस आधुनिक युग में इंटरनेट का उपयोग किया जा रहा है उसको tcp आईपी प्रोटोकोल के रूप में ही जाना चाहता है

इंटरनेट के क्या फायदे हैं:-

इंटरनेट के ओर कई सारे फायदे हैं जिसने हमारे जीवन को कई गुना सरल और आसान बना दिया है हम आपके सामने नीचे कुछ प्रमुख फायदे प्रस्तुत कर रहे हैं

A, Social media:-

दोस्तों बिना इंटरनेट के आज शायद आप और हम यह आर्टिकल एक दूसरे के साथ शेरिया पढ़ नहीं रहे होते इंटरनेट ने हमारे जीवन को इतना आसान बना दिया है कि इसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति किसी भी समय किसी भी जगह अपने विचार पूरे विश्व तक पहुंचा सकता है और यह है यदि साबित हुआ है दो सिर्फ सोशल मीडिया की मदद से सोशल मीडिया के माध्यम से कई सारे नेताओं सेलिब्रिटी आम लोग अपनी बातों को अपने विचारों को अपने दुख दर्द को किसी भी व्यक्ति

तक आसानी से पहुंचा सकते हैं हां इसके दुष्परिणाम भी बहुत सारे हैं लेकिन अच्छाइयां भी बहुत ज्यादा है सोशल मीडिया में इतनी पावर है यहां पर एक रात में कोई व्यक्ति ऊपर उठ सकता है तो 1 मिनट में कोई व्यक्ति नीचे गिर सकता है सोशल मीडिया के माध्यम से हम अपनी बातों को पूरे भारत में या पूरे विश्व में सिर्फ कुछ ही घंटों में पहुंचा सकते हैं और यह सोशल मीडिया या इंटरनेट के बिना संभव नहीं है

B, Learning:-

दोस्तों पहलेे किसी भी छात्र या छात्रा को कोई भी सवाल जवाब करने के लिए गुरु या टीचर के पास चल कर जाना होता था लेकिन आज इस आधुनिक युग में यह सब बहुत ही आसान और सरल हो गया है अब यहां पर स्कूलों में स्मार्ट क्लासरूम बनाई जा रहा है जिसके माध्यम से बच्चों को आसाानी से किसी भी व्यक्ति वस्तुतु स्थान आदि को आसानी से बच्चोंं को दिखाया जा सके और साथ ही टीचर बच्चों को आसानी से ऑनलाइन पढ़ा सकते हैं या कोई एक वीडियो बनाकर आसानी से यूट्यूब या किसी ग्रुप में शेयर कर कर अपने स्टूडेंट तक आसानी से पहुंचा देते हैं और

आपने देखा होगा की लॉकडाउन के बाद ऑनलाइन पढ़ाई पर लोग स्टूडेंट और टीचर कितना फोकस करनेे लगे है और कई सारी ई लर्निंग वेबसाइट जो टीचर और स्टूडेंट को एक दूसरे से जोड़तेे हैं उनको अपने इच्छा अनुसार रिलेटेड सब्जेक्टट को पढ़ाते हैं और आपने देखा होगा कि आजकल तो परीक्षा भी ऑनलाइन होने लग गई है तो आप सोच सकते हो कि इंटरनेट में ई लर्निंग में कितना बड़ा रूप लिया है

C, बात करना:-

दोस्तों आपने देखा होगा आज के इस आधुनिक युग में हम किसी भी जगह पूरेे विश्व मैं किसी भी समय किसी भी व्यक्ति से आसानी से बात कर सकते है और पहले किसी बात या सूचना को पहुंचने में कई दिन या कई महीने लग जाते थे वह आज के इस समय में सेकंड में सामने वाले व्यक्ति के पास पहुंच जाती है लेकिन इंटरनेट के आने से पहले यह बिल्कुल भी संंभव नहीं था

D, e-commerce:-

पहले के समय में हमें कोई भी सामान मंगाने के लिए या घर का सामान मंगानेेे के लिए खुद चलकर दुकान या बाजार तक जाना होता था लेकिन आज के समय में यह बिल्कुल भी काम नहीं करता है आजकल लोग बहुत आलसी हो गए हैंं या अपनेेे काम में इतने व्यस्त हो गए हैं कि उन्हें अपने लिए भी कुछ खरीदने का समय नहीं मिलता लेकिन आज के इस आधुनिक युग में जहांं इंटरनेट का युग है वहां पर दुकान तो लोगोंं की जेब मैं ही फिरती रहती है और लोग जब चाहे आसानी से

अपनेेेे मोबाइल फोन के माध्यम से अपनेे लिए कुछ भी खरीद सकतेे हैं और वह आपके घर में एक या 2 दिन में डिलीवर हो जाता है और आपका समय और भेजो दोनों बच जाता है जो कि बाजार मेंं आप से बढ़ा चढ़ा कर पैसे लिए जाते हैंं लेकिन ऑनलइन आपसे सिर्फ प्रोडक्ट और सामान डिलीवर करने केे ही पैसे लिए जाते हैं

इंटरनेट के क्या नुकसान है:-
  • इंटरनेट का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसकी वजह से बहुत सारे लोग अपना कीमती समय बर्बाद कर रहे हैं
  • Internet पर सबसे बड़ा जो नुकसान है वह मुझे यह लगता है की अश्लील फोटो और वीडियो इसके माध्यम से लोग अपना बहुत सारा समय तो गवाते ही है साथ ही गलत संगत की ओर चले जाते हैं और वह कुछ ना कुछ गलत कर बैठते हैं इसके माध्यम से उनके मस्तिष्क का विस्तार रुक जाता है और उन्हें कोई ना कोई बीमारी का शिकार होना ही पड़ता है वह इससे कतई बच नहीं सकते है और इस गलत संगत में सबसे ज्यादा आज का युवा युग है जो दिन भर इन चीजों को देखने में अपना समय बर्बाद करता है और साथ ही अपने बड़ों को देख कर आज कल छोटे-छोटे बच्चे भी इस संगत की ओर जाने लगे हैं कि माध्यम से बचपन से ही उनका विस्तार रुक जाता है और वह गलत रास्ते की ओर चले जाते हैं
  • यदि आप अपने फोन के माध्यम से ही अपना बैंक अकाउंट आदि हैंडल करते हैं या अपने बैंक अकाउंट से अपने मोबाइल के माध्यम से पैसों का आदान प्रदान करते हैं तो आजकल हैकर की चिंता बहुत ही बढ़ती जा रही है और दिन प्रतिदिन लोग इसके शिकार होते जा रहे हैं और अपने अकाउंट खाली करवा रहे हैं यह हैकर लोगों को किसी लिंक या ऐप के माध्यम से एक कर लेते हैं और उनका अकाउंट खाली कर देते हैं और उनका पर्सनल डाटा चोरी कर लेते हैं
इंटरनेट कैसे काम करता है:-

दोस्तों पहले जब इंटरनेट की शुरुआत हुई थी तब कई सारे लोग इसे सेटेलाइट के माध्यम से चलाते थे लेकिन इसे सेटेलाइट के माध्यम सेेे चलाने में बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता था लेकिन बाद में इसमेंं काफी कुछ इंप्रूवमेंट हुआ और इसे एक अलग रूप दिया गया आज हम इंटरनेट चलाते हैं उसका 90% इंटरनेट हम ऑप्टिकल फाइबर केबल से यूज करते हैं और इसका 10% हिस्सा अब भी सेटेलाइट के माध्यम से इस्तेमाल किया जाता है जिसका उपयोग सिर्फ कोई खुफिया एजेंसी या कोई सरकारी एजेंसी या कोई रिसर्च सेंटर

या रॉकेट सेंटर वाले लोग ठीक कर पाते हैं इसका उपयोग आम लोग नहींं कर सकते हैं हम जो ऑप्टिकल फाइबर केबल केेे माध्यम से इंटरनेट चलाते थे वह एक कंप्यूटर नेटवर्क है और इसे ऑप्टिकल फाइबर केबल केेे माध्यम से हमारेे तक पहुंचाया जाता है यह सिर्फ एक सर्विस है जिसे हम तक कई सारी प्राइवेट कंपनियां पहुंच आती है और इसके बदले हमारे से डाटा बैलेंस के रूप में पैसे चार्ज करती है

इंटरनेट का आविष्कार किसने किया:-

दोस्तों इंटरनेट का आविष्कार सोवियत संघ की आर्मी के कुछ रिसर्च करने वालोंं ने किया था उस समय शीत युद्ध चल रहा था और उन्हें अपने सैनिको तक कोई भी बात या गुुप्त कमान पहुंचाने के लिए कोई सरल माध्यम चाहिए था और उसेे ढूंढते ढूंढते अलग-अलग चीजों पर एक्सपेरिमेंट करते करते उन रिसेट करने वालों से इंटरनेट का आविष्कार हो गया इंटरनेट का arpan के शोधकर्ताओं ने मिलकर बनाया था

तो दोस्तों हम आशा करते हैं की यह आर्टिकल आपके लिए काफी नॉलेजेबल रहा होगा और आपको बहुत पसंद आया होगा तो दोस्तों इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करना ना भूले

हमारे इस संपूर्ण लेख को अंत तक पढ़ने के लिए kakainfoteam की ओर से आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

दोस्तों अगर आप सीखना चाहते हैं ब्लॉगिंग और कमाना चाहते हैं पैसे तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके संपूर्ण ब्लॉगिंग सीखिए

जानिए संपूर्ण ब्लॉगिंग