भारत के किसान ने किया कमाल बनाया Guinness world record

Indian farmer Guinness world record

भारत के उत्तराखंड में निवास करने वाले गोपाल दत्त उप्रेती ने विश्व का सबसे लंबा धनिया का पौधा होने का दावा किया है उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले में ताड़ीखेत नामक तहसील के एक आधुनिक किसान गोपाल दंत उप्रेती ने विश्व का सबसे लंबा 2.16 मीटर( 7 फुट 1 इंच लंबा) धनिए का पौधा उगा कर विश्व रिकॉर्ड बनाया है और अपना नाम (Guinness world record) में दर्ज कराया है

ताड़ीखेत के निवासी किसान गोपाल ने बनाया Guinness world record

ताड़ीखेत नामक क्षेत्र के निवासी गोपाल दत्त उप्रेती का एक Gs ऑर्गेनिक एप्पल का फॉर्म है वह अपने फार्म की 0.2 हेक्टेयर क्षेत्र में धनिया और लहसुन की खेती करते हैं और बाकी के क्षेत्र में सेब का बगीचा और सब्जियां उगाते हैं

अल्मोड़ा जिले के कृषि अधिकारी डॉ गणेश चौधरी ने बीते 21 अप्रैल को मुख्य उद्यान अधिकारी त्रिलोक नाथ पांडे और विवेकानंद के साथ अनेक फॉर्म का निरीक्षण किया तो उन्होंने देखा कि गोपाल दत्त उप्रेती के खेत में धनिया के पौधे औसत ऊंचाई से काफी लंबे हैं

अधिकारियों ने 27 मई को मुख्य उद्यान अधिकारी पांडे और जैविक उत्पाद परिषद मजखाली के इंचार्ज डॉ देवेंद्र सिंह नेगी ने गोपाल उप्रेती के खेत का फिर से निरीक्षण किया तो उन्होंने पाया कि खेत में स्थित धनिया का एक पौधा 2.16 मीटर (7 फुट 1 इंच लंबा था)

भारत के किसानों के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराना एक बहुत बड़े सम्मान की बात है

उप्रेती के खेतों में धनिया का सबसे बड़ा पौधा 7 फुट 1 इंच का था उनके खेत में इसके अलावा भी 5 से 7 फुट के बीच की लंबाई वाले और अनेक पौधे है

गोपाल दत्त उप्रेती पैसे से एक सिविल इंजीनियर है

गोपाल ने विश्व का सबसे लंबा धनिया का पौधा उगाने का रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कराने के लिए आवेदन कर दिया है और साथ ही पौधे की एक फोटो और लंबाई के साथ सभी कागजात आवेदन के लिए भेज दिए है गोपाल दंत उप्रेती ने साथ में यह भी बताया कि पौधे की अधिक लंबाई के कारण पौधे की सुगंध और अन्य स्वास्थ्य संबंधी चीजों में कोई फर्क नहीं पड़ा है

निरीक्षण दल के अधिकारियों को गोपाल दंत उप्रेती का कहना है कि उनका नाम (Guinness world record) गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज होना मेरे अकेले के सम्मान की बात नहीं बल्कि पूरे देश के किसानों के लिए सम्मान की बात है यह उपलब्धि मुख्य रुप से जैविक कृषि करने वाले किसानों के लिए बड़ी उपाधि है

साथ में किसान गोपाल ने यह भी बताया कि अब जैविक कृषि की संभावना और बड़ी है

गोपाल दत्त उप्रेती का कहना है कि उत्तराखंड राज्य में किसानों के लिए जैविक कृषि करने की कई संभावनाएं अब और ज्यादा पैदा हुई होगी

पत्नी ने उकसाया जैविक कृषि के लिए

साथ में गोपाल दत्त उप्रेती यह भी बताते हैं कि जैविक खेती करने के लिए उनको उनकी पत्नी ने उकसाया था

गोपाल दंत उप्रेती ने अपनी इस उपाधि को अपने राज्य उत्तराखंड और संपूर्ण भारत के किसानों को समर्पित किया है ताकि संपूर्ण देश के किसानों का जज्बा बना रहे और जैविक खेती करने की जागरुकता और ज्यादा बड़े

साथ ही ऐसी प्रेरणा भरी कहानियां और खेती की रोचक जानकारियों के लिए बने रहे kakainfo के साथ