Kaka Rajesh Khanna Biography (काका राजेश खन्ना)

प्रिय साथियों हम एक ऐसी महान शख्सियत के बारे में बात करने वाले हैं जिन्होंने बॉलीवुड इंडस्ट्री में बहुत नाम कमाया और वह अपने दशक के सबसे लोकप्रिय स्टार (अभिनेेता) थे इन्होंने 1900 के दशक में एक के बाद एक बॉलीवुड में सबसे अच्छी फिल्मे दी और इनके संपूर्ण जीवन में बहुत सारे उतार-चढ़ाव आए जिनका इन्होंने डटकर सामना किया और अपने जीवन काल में आगे बढ़े इस महान शख्सियत का नाम है kaka Rajesh khanna तो आज हम इनके संपूर्ण जीवन काल की कुछ लोकप्रिय और प्रमुख बातों के बारे में बात करेंगे साथ ही काका जी की संपूर्ण जीवनी जानेंगे

काका राजेश खन्ना का प्रारंभिक जीवन (Kaka Rajesh Khanna Biography in Hindi)

Kaka Rajesh Khanna का प्रारंभिक जीवन :- सन 1900 के दशक के इस महानायक का जन्म 29 दिसंबर 1942 को अमृतसर पंजाब में हुआ था

Kaka Rajesh khanna Biography
Kaka Rajesh khanna

काका को जन्म देने वाले माता-पिता का नाम चंद्रानी खन्ना और लाला हीरानंद था और इनको जन्म देने वाले माता पिता उनका पालन पोषण करने में असमर्थ थे जिसके कारण उन्होंने अपने रिश्तेदार लीलावती खन्ना और चुन्नीलाल खन्ना जो एक दंपति थे इनको अपने बच्चे को सौंप दिया और जतिन खन्ना (जो इनके बचपन का वास्तविक नाम था) का आगे का पालन पोषण लीलावती चुन्नीलाल खन्ना ने किया था के बाद उनके माता-पिता भारत विभाजन के समय पाकिस्तान आकर अमृतसर में बस गए और वहीं पर काका को पढ़ाया लिखाया था

राजेश खन्ना काका बॉलीवुड इंडस्ट्री के सबसे पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना के पहले बॉलीवुड इंडस्ट्री में कोई भी सुपरस्टार नहीं बना था सुपरस्टार बनने वाले पहले राजेेश खन्ना काका ही थे

जतिन खन्ना को उनका सही नाम राजेश खन्ना उनके चाचा जिनका नाम के.के तलवार था उन्होंने यह नाम दिया था और आगे चलकर राजेश खन्ना ने फिल्मों में भी अपने इसी नाम को अपना लिया राजेश खन्ना के एक बहन भी है जिनका नाम कमला है राजेश खन्ना का नाम काका कैसे पड़ा इसके बारे में हम आगे बात करते हैं

Rajesh Khanna की स्कूली शिक्षा :-

Kaka ने अपनी स्कूली शिक्षा मुंबई में स्थित सेंट सेबेस्टियन गायन हाई स्कूल, मुंबई से पूरी की थी राजेश खन्ना और जितेंद्र दोनोंं हाथ में ही पढ़ते थे और इन्होंने अपनी हाई स्कूल सेंट सेबेस्टियन गायन हाई स्कूल, मुंबई से साथ में ही कंप्लीट करी थी और मैं आपको बता दूं कि जितेंद्र और राजेश खन्ना दोनों ही एक दूसरे के बहुत ही अच्छे मित्र थे,

और इन्होंने अपना फिल्मी करियर भी साथ साथ मेंं ही शुरू किया था इसके बाद दोनों ने अपनी आगे की कॉलेज की शिक्षा को नौरोसजी वाडिआ कॉलेज, पुणे और केसी कॉलेज, मुंबई से पूरी की थी और यहां से दोनों ने अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करी थी

Rajesh Khanna का kaka नाम कैसे पड़ा :-

राजेश खन्ना के एक बहुत ही अच्छे मित्र थे जिनके बारे में मैंने ऊपर भी चर्चा की है राजेश खन्ना और जितेंद्र दोनों साथ मेंं ही अपने सारे काम किया करते थे यहां तक की जितेंद्र को जब उनकी पहली फिल्म के लिए ऑडिशन देना था तब भी उन्होंने काका राजेश खन्ना का सहारा लिया और उन्होंने जितेंद्र को अपनी पहली फिल्म के लिए कैमरेे के सामने बोलना सिखाया था आगे चलकर यह प्रेम और बड़ा और उसके बाद राजेश खन्ना के दोस्त जितेंद्र और उनकी पत्नी ने राजेश खन्ना को काका कहकर बुलाने लग गए और तब से ही राजेश खन्ना को काका भी कहा जाता है और आप जानते हो कि आज भी राजेश खन्ना के नाम के आगे या फिर पीछे काका नाम भी जरूर लगाया जाता है

और एक समय मैं ऐसा दौर भी आया जब राजेश खन्ना बहुत ही चर्चित है और फिर उनके ऊपर एक कहावत भी बनी थी जिसे लोग कहा करते थे की ” ऊपर आका और नीचे काका ”

Rajesh Khanna kaka का व्यवसायिक जीवन :-

राजेश खन्ना को बचपन सेे ही एक्टिंग का बहुत ही ज्यादा शौक था और इसी शौक की बदौलत वह अपने स्कूल मैं होने वाले कार्यक्रमों में भाग लेते थे और वहां पर नाटक वगैरा क्या करते थे उन्होंने अपनी एक्टिंग की शुरुआत स्कूल से ही कर दी थी क्योंकि उन्हें एक्टिंग का बहुत ही शौक था और किसी एक्टिंग के शौक ने उन्हें एक बार बहुत बड़े प्रोग्राम में ले गया जिसका टैलेंट हंट नाम था और इसी टैलेंट हंट नाम के प्रोग्राम से राजेश खन्ना की किस्मत चमकी थी और इस टैलेंट हंट नाम के शो मे लगभग 10,000 से ज्यादा लोगों ने भाग लिया था

और जब इस टैलेंट हंट शो का परिणाम आया तो 8 लोगों को चुना गया उनमें से एक राजेश खन्ना भी थे इसके बाद फाइनल परिणाम में भी राजेश खन्ना को ही चुना गया और उन्होंने इस टैलेंट हंट शो को जीत लिया इसके बाद मानो की राजेश खन्ना kaka के लिए बॉलीवुड के दरवाजे खुल गए थे इसके बाद उनको बहुत सारे फिल्मों के ऑफर आए और उनकी पहली फिल्म थी

Aakhri khat आखरी खत :-

राजेश खन्ना ने 1966 में 23 साल की उम्र से अपना फिल्मी करियर शुरू किया और उन्होंने पहली aakhri khat फिल्म में काम किया यह फिल्म 30 दिसंबर 1966 को रिलीज की गई थी लेकिन उनको इस फिल्म से ज्यादा कामयाबी नहीं मिली थी उसके बाद 1969 में आई एक फिल्म से काका को बहुत बड़ी कामयाबी मिली और इस फिल्म ने काका को सुपरस्टार भी बना दिया था चलिए इसके बारे में आगे बात करते हैं

इसके बाद इन्होंने लगातार इसके बाद राज़, बहारों के सपने, आखिरी खत तीन फिल्मों में काम किया और उन्होंने इन सभी फिल्मों में अच्छा काम करने की भी कोशिश की लेकिन इनमें से एक फिल्म बहारों के सपने पूरी तरह से फेल हो गई थी लेकिन kaka ने इससे हार नहीं मानी और इसके बाद एक और फिल्म रिलीज हुई जिसका नाम था

लेकिन उनको इन सभी फिल्मों से से ज्यादा कामयाबी नहीं मिली थी उसके बाद 1969 मैं आई एक फिल्म से काका को बहुत बड़ी कामयाबी मिली और इस फिल्म ने काका को सुपरस्टार भी बना दिया था चलिए इसके बारे में आगे बात करते हैं

Aradhana आराधना :-

1970 के दशक में आई इस फिल्म ने राजेश खन्ना को सुपरस्टार बना दिया था और इसी फिल्म की बदौलत ज्यादा लोग उन्हें जानने लगे थे इस फिल्म के बाद उन्होंने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा था यह फिल्म 27 सितंबर 1969 को रिलीज हुई थी और इस फिल्म ने अपने समय में बहुत ही ज्यादा कमाई की थी इस फिल्म को आगे चलकर और भी कई सारे देशों में रिलीज कि गई थी इस फिल्म में 7 गाने गाए गए थे इस फिल्म में गाय गए कुछ प्रमुुख गानों के नाम “Kora Kagaz Tha Yeh Man Mera” , “Roop Tera Mastana” , “Chanda Hai Tu Mera Suraj Hai Tu” , यह कुछ प्रमुख गाने थे जो aradhana आराधना फिल्म में गाया गए थे

Rajesh Khanna kaka 1969 से 1975 तक का सफर :-

1969 से लेकर 1975 तक Rajesh Khanna ने पूरी 15 सुपरहिट फिल्में दी जिनका नाम है आराधना , इत्त्फ़ाक़, दो रास्ते, बंधन, डोली, सफ़र, खामोशी, कटी पतंग, आन मिलो सजना, ट्रैन, आनन्द, सच्चा झूठा, दुश्मन, महबूब की मेंहदी, हाथी मेरे साथी इन मैं से अंदाज और मर्यादा फिल्म सबसेे ज्यादा सुपरहिट रही थी और इसी दौर में उनकी एक सबसे फ्लोप फिल्म भी थी किसका नाम मालिक था यह फिल्म पूरी तरह से असफल रही थी

इस दौर में राजेश खन्ना बॉलीवुड के सुपरस्टार बन गए थे और लोग उनकी फिल्मों के आने का इंतजार करने लगते थे यह दौर राजेश खन्ना के लिए इतना अच्छा आया कि लोग उनसे इतना प्यार करने लगे की लोग अपने बच्चों का नाम राजेश के नाम से रखने लग गए थे और देश भर में लोग उनके इतने दीवाने थे कि सभी लोग उनको kaka कहकर बुलाने लगे थे

Rajesh Khanna को मुमताज का साथ :-

उन्नीस सौ के दशक में राजेश खन्ना ने मुमताज के साथ पूरी 8 फिल्मों में काम किया था और यह सभी फिल्में लगभग सुपरहिट रही थी राजेश खन्ना और मुमताज दोनों ही एक दूसरे के बहुत ही अच्छे दोस्त थे फिर बाद में काका राजेश खन्ना ने शादी कर ली और राजेश खन्ना के शादी करने के बाद कुछ समय पश्चात मुमताज ने भी शादी कर ली उन्होंने मयूर माधवानी के साथ शादी की जो उस समय के अरबपति हुआ करते थे शादी करने के बाद भी मुमताज और राजेश खन्ना ने तीन फिल्में साथ में की थी और इसके बाद मुमताज ने फिल्मी करियर से पूरी तरह से सन्यास लेे लिया और कहीं पर अपने पति के साथ विदेश में जाकर बस गई और इससे राजेश खन्ना को बहुत ही बड़ा झटका लगा था

Rajesh Khanna का पारिवारिक जीवन :-

राजेश खन्ना का 1966 से 1972 के बीच में एक फैशन डिजाइनर और एक फिल्म अभिनेत्री अंजु महेंद्रु के साथ प्रेम प्रसंग बहुत ही ज्यादा लोगोंं के बीच चर्चा में रहा लेकिन बाद में यह बात और ज्यादा आगेे नहीं बड़ी और राजेश खन्ना काका ने मार्च 1973 में एक फिल्म अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया से विविध अनुसार शादी कर ली और शादी करने 8 महीने बाद डिंपल कपाड़िया की एक फिल्म रिलीज हुई जिसका नाम बॉबी था यह फिल्म बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय हुई और इसके बहुत ज्यादा लोकप्रियता के कारण डिंपल कपाड़िया का फिल्मों की ओर ध्यान ज्यादा बढ़ गया

और इसके बाद यहीं से इन दोनों की वैवाहिक स्थिति में दरार पड़ गई और आगे चलकर 1984 में दोनों पति पत्नी एक दूसरे से अलग हो गए डिंपल कपाड़िया से राजेश खन्ना को दो बेटियां हुई थी और काफी समय अलग रहने के बाद राजेश खन्ना और डिंपल कपाड़िया 1990 में फिर से एक दूसरे के नजदीक आने लगे और दोनोंं ने अपने बीच के मतभेद को भुला दिया और फिर 1990 से लेकर 2012 तक डिंपल कपाड़िया और राजेश खन्ना दोनों एक दूसरे के साथ रहे थे और दोनों ने साथ में फिर से एक फिल्म में भी काम किया था

Rajesh Khanna kaka के लिए खून से खत लिखा करती थी लड़कियां :-

उस समय के दौर में राजेश खन्ना एक तो सुपरस्टार है जिनकी हर कोई व्यक्ति कॉपी करता था वह जैसे कपड़ेे पहनते थे उनके जैसे बाल कटवाते थे और भी बहुत कुछ राजेश खन्ना को कॉपी करके करते थे राजेश खन्ना उस समय पूरे भारत देश में इतने पॉपुलर थे की आज का कोई व्यक्ति उस कामयाबी के आसपास भी नहीं भटक सकता है लड़के राजेश खन्ना की स्टाइल को कॉपी किया करते थे क्योंकि राजेश खन्ना उस समय के सबसे स्टाइलिश और हैंडसम हीरो थे

और यह भी कहा जाता है कि जब वह किसी सड़क से गुजरते थे तो उनकी एक झलक देखने के लिए लोगों की भीड़ पहले से इकट्ठा हो जाती थी और उनके आने का घंटों इंतजार करती थी राजेश खन्ना की लड़कियां इतनी दीवानी थी की काका के लिए खून से खत लिखा करती थी और कई सारी लड़कियां उनकी फोटो से भी शादी कर लेती थी

जब राजेश खन्ना अपनी कार को कहीं पर पार्क करके जाते थे तो लड़कियां उनकी वाइट कार को चूम चूम कर और लिपस्टिक लगाकर वाइट से गुलाबी कर देती थी

राजेश खन्ना द्वारा गाए गए गाने :-

#राजेशखन्नाकेगाने

#Rajeshkhannasong

राजेश खन्ना को एक्टिंग के साथ-साथ गाना गाने काम भी शौक था राजेश खन्ना द्वारा गए गए गाने

  • 1967 में आई फिल्म “बहारों के सपने” में “ओ मेरे सजना ओ मेरे बलमा” गाने को गाया था.
  • 1969 में आई फिल्म “अराधना” में “बागों में बहार है” गाने को गाया था.
  • 1970 में आई फिल्म “सफर” में “नदियां चले चले रे धरा” गाने को गाया था.
  • 1972 में आई फिल्म “अमर प्रेम” में “रैना बीती जाए” गाने को गाया था.
  • 1972 में आई फिल्म “शेह्ज़ादा” में “ना जाइयो ना जाइयो छोड़ के ना जइयो मेरी रानी” और “रिमझिम रिमझिम देखो बरस रहे हैं” गाने को गाया था.
  • 1973 में आई फिल्म “दाग: ए पोएम ऑफ़ लव” में “मैं तो कुछ भी नहीं” गाने को गाया था.
  • 1974 में आई फिल्म “पलकों की छाओं में” में “लडख़ड़ाने दो मुझे” गाने को गाय था.

Rajesh Khanna kaka फिल्मी सफर :-

जैसा कि आपको ज्ञात है की राजेश खन्ना ने अपनेे फिल्मी करियर की शुरुआत 1966 में आखरी खत फिल्म से की थी के बाद राजेश खन्ना ने 1969 से लेकर 1975 के बीच में पूरी 15 सुपरहिट फिल्मेंं दी इसके बाद भी राजेश खन्ना ने अपनेे संपूर्ण फिल्मी करियर में बॉलीवुड को बहुत ही सुपरहिट फिल्में देखने को दी

लेकिन राजेश खन्ना की 1976 से 1978 के बीच में पूरी सात फिल्में असफल रही और यह राजेश खन्ना के फिल्मी करियर का सबसे बुरा दौर था इस संपूर्ण फिल्मी करियर के बीच राजेश खन्ना ने बहुत सारी फिल्में दी लेकिन 1991 के बाद राजेश खन्ना का दौर खत्म हो गया इसके बाद उन्होंने ज्यादा कुछ फिल्में नहींं की थी राजेश खन्ना ने अपने संपूर्ण फिल्मी करियर में 1966 से लेकर 2013 तक कुल 163 फिल्मों में काम किया था और इनमें से 105 फिल्में हिट रही थी उन्होंने फिल्म में हीरो की मुख्य भूमिका के रूप में 117 फिल्म की और इनमें से 91 फिल्में हिट रही

Rajesh Khanna की फिल्मों का अंतिम सफर :-

राजेश खन्ना ने अपने जीवन काल के अंतिम 12 – 13 सालों में कुल चार फिल्मोंं में काम किया था इसमें से उन्होंने 2001 मैं आई ” प्यार जिंदगी है ” मैं काम किया और फिर उसके बाद 2002 में उन्होंने “क्या दिल ने कहा” मैं काम किया और फिर उन्होंने 2007 में आई बहुत ही बड़ी फिल्म “ओम शांति ओम” मैं काम किया और फिर अंतिम बार 2014 में आई “रियासत” फिल्में मैं उनको देखा गया इस प्रकार उन्होंने अपनेेे जीवन के अंतिम समय में मुख्य रूप से इन फिल्मों में काम किया था

Kaka Rajesh Khanna राजनीतिक सफर :-

1984 में राजेश खन्ना ने अपने मित्र राजीव गांधी के देने पर कांग्रेस का नेतृत्व संभाला और उन्होंने कांग्रेस का प्रचार प्रसार शुरू कर दिया था 1990 के दशक में राजेश खन्ना ने फिल्मों से निराशा मिलने के बाद राजनीति मुख्य रूप से कदम रखा और फिर 1991 में उन्होंने कांग्रेस की तरफ से नई दिल्ली में लालकृष्ण आडवाणी के खिलाफ चुनाव लड़ा था लेकिन काका राजेश खन्ना 1589 वोटो से इस चुनाव को हार गए थे

इसके बाद लालकृष्ण आडवाणी जब गांधीनगर सीट के लिए नई दिल्ली की सीट छोड़ दी और फिर इस सीट पर उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा को हराते हूए 25000 वोटों की बढ़ोतरी के साथ जीत हासिल की और बाद में उन्होंने राजनीति को छोड़ दिया और फिर से फिल्मों की ओर रुख मोड़ लेकिन उन्हें बाद में इतनी सफलता नहीं मिली थी

Rajesh Khanna काका की उपलब्धियां और पुरस्कार :-

राजेश खन्ना का काका को फ़िल्मफेयर पुरस्कार के लिये 14 बार नामांकित किया गया था और इनमें से उनको 4 बार फिल्म फेयर अवार्ड से नवाजा गया था राजेश खन्ना द्वारा प्राप्त किए गए कुछ प्रमुख पुरस्कार…2009 में ‘आइफा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड्स’ से सम्मानित किया गया था।

  • 2009 में “आइफा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड्स” द्वारा सम्मानित किया गया था.
  • 2010 में “पीफा लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड्स” द्वारा सम्मानित किया गया था.
  • 2013 में “पद्मा भूषण” अवार्ड द्वारा सम्मानित किया गया था.

राजेश खन्ना को लेकर किए जाने वाले कुछ प्रमुख सवाल जवाब:-

Q. राजेश खन्ना की पत्नी का नाम क्या था ?

Ans. राजेश खन्ना की पत्नी का नाम डिंपल कपाड़िया था.

Q. राजेश खन्ना की कितनी बेटियां थी और उनके क्या नाम थे

Ans. राजेश खन्ना के 2 बेटियां थी जिनका नाम ट्विंकल खन्ना और रिंकी खन्ना है

Q. क्या राजेश खन्ना अंजु महेंद्रु से शादी करना चाहते थे?

Ans. जी हां यह बिल्कुल सत्य है कि राजेश खन्ना अंजु महेंद्रु से शादी करना चाहते थे यह दोनों 7 साल तक रिलेशन में भी रहे लेकिन बाद में अंजु महेंद्रु राजेश खन्ना को शदी करने से मना कर दिया लेकिन जब बाद में राजेश खन्ना की डिंपल कपाड़िया से शादी हुई तो वह उसी गली से बारात लेकर निकले जिस गली में अंजु महेंद्रु रहा करती थी

Q. क्या राजेश खन्ना और मुमताज की सभी फिल्में सुपरहिट रही थी

Ans. यह बिल्कुल सत्य है कि राजेश खन्ना और मुमताज ने जिन भी फिल्मों में काम किया वह सब फिल्में ब्लॉकबस्टर रही थी

Q. क्या राजेश खन्ना साठ के दशक में स्पोर्ट्स एमजी गाड़ी के मालिक थे?

Ans. हां बिल्कुल राजेश खन्ना 60 के समय में एक स्पोर्ट्स एमजी गाड़ी के मालिक थे जिसका इस्तेमाल वह अपने संघर्ष के दिनों में ऑडिशन देने के लिए जाते समय करते थे

Summary :-

साठ के दशक में राजेश खन्ना ने अपना फिल्मी करियर शुरू किया था और उन्होंने 1969 के बाद एक के बाद एक ब्लॉकबस्टर फिल्म दी और उनके बाद उन्होंने अपने करियर में कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा लेकिन राजेश खन्ना ने जितनी जल्दी कामयाबी के शिखर को छुआ उतना ही जल्दी उनको नाकामयाबी भी मिली एक समय में जब वह बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार हुआ करते थे वहीं पर उनके जीवन के अंतिम सालों में एक समय ऐसा भी आया जब उनकी एक के बाद एक फिल्म थियेटरो की धूल चाट रही थी लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और अपने जीवन के अंतिम समय तक फिल्मों में काम करते थे

जिस बॉलीवुड महानायक के बारे में आपने इतना कुछ पढ़ा यह व्यक्ति अब इस दुनिया में नहीं है इन्होंने अपने जीवन की अंतिम सांस 18 जुलाई 2012 को ली kaka कैंसर पीड़ित मरीज थे और इसी वजह से इनकी मृत्यु भी हुई और इसके बाद यह हम सभी को हमेशा के लिए अलविदा कहकर चले गए लेकिन इनके द्वारा बनाई गई फिल्में इनके द्वारा गाए गए गाने आज भी कहीं ना कहीं लोगों के दिमाग में अपनी जगह बनाए बैठे हैं और आज भी लाखों लोग राजेश खन्ना काका को दिल से चाहते हैं

29 दिसंबर 2020 को राजेश खन्ना काका का जन्मदिन है आज भी उनका परिवार उनके जन्मदिन को बड़े ही धूमधाम से मनातेे हैं और हां मानते हैं कि वह इस दुनिया में तो नहीं है पर उनके लिए लोगों का आज भी इतना प्यार है की वह हर साल राजेश खन्ना का birthday मनाते हैं